सादगी का दूसरा नाम पंकज त्रिपाठी! छुट्टियों पर अपने गांव गए, लिट्टी-चोखा बनाया, और दिल जीत लिया

पंकज त्रिपाठी, एक ऐसा नाम जो कहीं भी लिया जाए, अदब और कायदे से लिया जाता है. और इसकी वजह है उनकी शानदार अदाकारी और ज़मीन से जुड़ा व्यक्तित्व. पंकज त्रिपाठी एक ऐसे एक्टर हैं जिन्होंने दुनिया को दिखा दिया कि हीरो वाली शक्ल न होने के बावजूद हीरो बन सकते हैं।

गैंग ऑफ वासेपुर (Gangs of Wasseypur), लुडो (Ludo) जैसी फ़िल्में और मिर्ज़ापुर (Mirzapur) जैसी वेब सीरीज़ करने वाले पंकज त्रिपाठी इन दिनों छुट्टियां मना रहे हैं. बिहार के गोपालगंज स्थित अपने गांव बेलसंड में छुट्टियां मनाने पहुंचे हैं त्रिपाठी. मोटा पैसा कमाने, मुंबई में सी फ़ेसिंग अपार्टमेंट लेने के बावजूद त्रिपाठी अपनी जड़ों को नहीं भूले हैं.

आग पर लिट्टी चोखा पकाया

ट्विटर पर @Utkarsh Singh ने पंकज त्रिपाठी के गांव की छुट्टियों का एक वीडियो शेयर किया है. वीडियो में त्रिपाठी आग पर लिट्टी पकाते नज़र आ रहे हैं. ये शख्स ज़मीन से कितना जुड़ा हुआ है, इस क्लिप से ये फिर से साबित हो गया.

A@

पंकज त्रिपाठी वीडियो में गांव के रहन सहन के बारे में बता रहे हैं. वे कह रहे हैं कि गांव में जीवन ठहरा हुआ है. पंकज त्रिपाठी ने कहा, ‘सुबह 11 बजे लगता है कि पता नहीं समय चल क्यों नहीं रहा है. मुंबई की भाग-दौड़ में कई बार महसूस नहीं होता है, कब सुबह हुई, कब दोपहर हुई, कब शाम.’

[डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज सोशल मीडिया वेबसाइट से म‍िली जानकारियों के आधार पर बनाई गई है. Filaska.com अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है.]