बिना पैर दोनों हाथों से तेज चलकर बना लिया वर्ल्ड रिकॉर्ड, वीडियो हुआ जमकर वायरल….

जियोन क्लार्क एक जानी मानी हस्तियों में से एक है। जिनका जन्म 29 सितंबर 1997 में कोलंबस में हुआ था क्लार्क का जन्म बिना पैरो के हुआ था । क्लार्क के पैर न होने के बावजूद भी इनके नाम बहुत से रिकॉर्ड है। क्लार्क एक रेसलर, एक रनर और एक मोटिवेशनल स्पीकर भी है। क्लार्क को जेनेटिक डिसऑर्डर की वजह से उनके पैर नही थे। क्लार्क के पेट के नीचे का हिस्सा नहीं था। जिसके कारण वो सारा काम अपने हाथो से ही किया करते थे।

आपको जानकारी दे दिया जाए कि जियोन की वीडियो इतनी इमोशनल देखी गई है कि साहस को देखकर आपके आँखों में आंसू आ जायेंगे और मन में ही कहेंगे कि अगर हौसला हो तो इंसान कुछ भी कर गुज़र सकता हैं.

Video link : https://www.facebook.com/GuinnessWorldRecords/videos/150459097277171/

क्लार्क ने हमेशा अपने आप को कम नही समझा जिसके कारण पूरी दुनिया आज क्लार्क को जानती है। क्लार्क के परिवार वाले उनकी परवरिश करने में असमर्थ थे इसलिए उन्हें कही घर और स्कूल बदलने पड़े जिसके बाद उन्हें किम्बर्ली हॉकिंस ने गोद लिया था था और उन्हें अच्छी तरह परवरिश की थी । क्लार्क ने 20 मीटर की रेस 4.78 मिनट में पूरा किया। कार्क को रेसलर कलाई मायनार्ड ने बहुत प्रोत्साहन दिया जिसके बाद उन्होंने माउंट किलिमंजारो की भी चढ़ाई की। कार्क की पूरी डॉक्यूमेंट्री को नेटफ्लिक्स पर भी डाला गया है जहा से आप क्लार्क  के बारे बहुत सारे बाते जान सकते है।

कहते हैं ना कि अगर तुम किसी चीज़ में कमजोर हो तो उसी कमजोरी को अपनी ताकत बनाकर हौसले के साथ डटे रहो, एक दिन दुनिया आपको सलाम करती है। ऐसा ही एक उदाहरण सामने आया है जहां एक दिव्यांग एथलीट कम मोटिवेशनल स्पीकर जियोन क्लार्क ने पैर ना होने के बाद भी सिर्फ हाथों के दम पर अपना नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करा लिया। जियोन की वीडियो इतनी इमोशनल है कि साहस को देखकर आपके आंसू आ जाएंगे और मन में कहेंगे कि अगर हौसला हो तो इंसान कुछ भी कर सकता है।

आपको जानकारी दे दिया जाए कि जियोन क्लार्क ने संदेश देते हुए सभी से कहा कि मैं ये मैसेज उन सभी दिव्यांग लोगों या बच्चों को देने की कोशिश कर रहा हूँ कि थोड़ा मुश्किल जरूर होता हैं लेकिन अगर दिल और पूरी शिद्दत से आप जो चाहें वो हासिल सकते हैं। आपको जानकारी दे दिया जाए कि जियोन क्लार्क ने आगे खुलासा करते हुए कहा कि आप दिव्यांग हैं या नहीं हैं, ये मैसेज सभी के लिए एक जैसा ही रहेगा।