Join Now

वो फिल्में जिसमें इंटी*मेट सीन्स डालने से भी परहेज नहीं किये, डायरेक्टर

बॉलीवुड में एक समय ऐसा था जब बेहद साथ सुथरी फिल्में करती थी लेकिन अब समय पूरी तरह से बदल गया है। फिल्म को हिट करवाने के लिए डायरेक्टर कुछ इंटीमेट सीन्स डालने से भी परहेज नहीं करते है।

दरअसल अब ऐसी फिल्में सफलता में अहम भूमिका निभाती है। वहीं डायरेक्टर के दिमाग में ये बात भी हमेशा घूमती रहती है कि अगर सीन्स ज्यादा आपत्तिजनक हुए तो सेंसर बोर्ड उन पर अपनी कैंची चला सकता है।तो उसी चीज को लेकर आज हम आपको ऐसी 5 फिल्मों के बारे में बताने जा रहे है। इतनी बोल्ड है कि जिसे आप शायद परिवार के साथ बैठकर नहीं देख पाएंगे लेकिन सेंसर बोर्ड ने इन फिल्मों पर कैंची नहीं चलाई।

राम तेरी गंगा मैली: 1985 में रिलीज हुई इस फिल्म को राज कपूर ने डायरेक्ट किया था। इस फिल्म में अभिनेत्री मंदाकिनी कई बोल्ड सीन देती हुई नजर आयी थी। इन बोल्ड सीन्स की वजह से काफी बवाल हुआ था।


IMG 20220612 141129फिल्म में अभिनेत्री ने सफेद साड़ी में कई बोल्ड सीन दिए थे। जिसे आप अपने परिवार के साथ बैठकर नहीं देख सकते है। हालंकि इस फिल्म पर सेंसर बोर्ड ने अपनी कैंची नहीं चलाई थी।

जिस्म 2 : 2012 में बड़े परदे पर रिलीज हुई फिल्म जिस्म 2 से सनी लियोन ने बॉलीवुड में अपना डेब्यू किया था। इस फिल्म में वो कई बोल्ड और हॉट सीन्स देती हुई नजर आयी थी।इस फिल्म को पूजा भट्ट ने डायरेक्ट किया था। इस फिल्म के बाद वो जैकपॉट, रागिनी एमएमएस 2, बेइमान लव और रईस जैसी फिल्मों में काम कर चुकी हैं।

images 2022 06 12T155629.185

गर्लफ्रेंड : 2004 में रिलीज हुई इस फिल्म में लेस्बियन लव को बड़े ही खूबसूरत तरीके से दिखाया गया था। फिल्म में। ईशा कोप्पिकर और अमृता अरोड़ा ने मुख्य भूमिका निभाई थी.

रासलीला:2012 में रिलीज हुई रोमांटिक ड्रामा फिल्म ‘रासलीला’ अपने बोल्ड सीन्स को लेकर उस समय काफी खबरों में रही थी। इस फिल्म के डायरेक्टर माजिद थे। फिल्म में कई आपत्तिजनक सीन्स फिल्माए गए थे लेकिन फिर भी सेंसर बोर्ड द्वारा फिल्म को क्लीन-चिट दे दी गयी थी।

images 2022 06 12T162011.683

आस्था: इन द प्रिजन ऑफ स्प्रिंग’ 1997 में बड़े परदे पर रिलीज हुई थी। रेखा और ओमपुरी अभिनीत यह फिल्म एक इरोटिक-ड्रामा फिल्म थी। इस फिल्म में रेखा और ओमपुरी के बीच कई बोल्ड और हॉट सीन्स फिल्माए गए थे। इन्हीं सीन्स के चलते रेखा को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। इस फिल्म के डायरेक्टर बासु भट्टाचार्य थे।